प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऊपर लग रहे गंभीर आरोप।।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऊपर लग रहे  गंभीर आरोप।💛


 2024 के चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी के सितारे गर्दिश में

                           नरेंद्र मोदी 2014 के बाद एक ऐसा व्यक्ति जो हर मुश्किल और हर आरोप के बाद मजबूत होता गया। जो धर्म की राजनीति और चाय बेचने वाले की पहचान लेकर प्रधानमंत्री के आसन तक पहुंच गया। जिसके कार्यकाल में राम मंदिर का निर्माण और कश्मीर से 370 धारा खत्म जैसे महत्वपूर्ण कार्य हुए। अपने चल रहे कार्यकाल में नरेंद्र मोदी को कोई खास मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ रहा था कारण उनकी टीम बहुत तेज थी और एक वक्त पूरा देश मोदी के आगे नतमस्तक था मोदी के कार्यकाल में एक व्यक्ति और बुलंदियों को छू रहा है वह है गौतम अदानी इनकी जुगलबंदी में अदानी ग्रुप पूरे भारत पर कब्जा करता जा रहा है धर्म और आस्था के बंधनों में जनता जनार्दन भी मस्त है थोड़ी परेशानी थी वह किसान वर्ग को थी परंतु लखीमपुर कांड के बाद वह भी लगभग चुप हो गए और मुस्लिम भाईचारा तो बिल्कुल खामोश हो गया। राष्ट्रीय मीडिया पूर्णतः मोदी का ही गुणगान कर रहे हैं मीडिया के प्राइवेट हाथों में चले जाने के बाद सब मोदी प्रशंसकों के हाथ में है। विपक्ष पूर्ण विफल हो गया उनके प्रयास मोदी को हिला भी नहीं पा रहे हैं। अगर धर्म की आस्था के अनुसार बात करें तो मोदी की ग्रह चाल मोदी को एक बड़े व्यक्तित्व में प्रमोट करती है इसी माहौल को देखकर लगने लगा था कि कभी भी हिंदू राष्ट्र की घोषणा हो सकती है एक चर्चा चलने लगी कि संविधान को बदल कर हिंदू ग्रंथों के अनुसार जाति वर्ग के अनुसार लोगों को डील किया जाएगा अब यह बात है कितनी सत्य है यह वक्त के गर्भ में है

                भारत में हो रहे बदलावों पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय बिल्कुल खामोश था जो बाबरी मस्जिद बदलाव और कश्मीर में 370 को हटाने पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं देता। इसके पीछे का कारण था बाहरी ताकते भारत को एक मंडी मानती है और अपने रिश्तो को कोई भी खराब नहीं करना चाहता। लग रहा है दिल में सभी के हैं और पत्ते कोई नहीं खोल रहा तभी सबसे पहले जब चर्चा शुरू होती है कि भारत के प्रधानमंत्री योगी आदित्यनाथ को बनाया जाए और राष्ट्रीय सेवा संघ भी यही चाहता है यह वह दौर है जिसमें लग रहा है कि आने वाला समय भारतीय जनता पार्टी का है अब उसमें यह निर्धारित करना है प्रधानमंत्री कौन होगा। अभी अमेरिका की एक कंपनी हिंडनवर्ग की एक रिपोर्ट आती है जिससे अदानी ग्रुप के शेयर प्रभावित होते हैं शेयर मार्केट का बाजार है ऊपर नीचे होता रहता है परंतु जब इसे भारत पर हमला करार दिया जाता है तब सोचने का विषय था भारत पर हमला कैसे और इसी के साथ बुद्धिजीवियों में चिंतन शुरू हो जाता है इसी दौर में नरेंद्र मोदी पर एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म बीबीसी से रिलीज की जाती है और मोदी जी अपने तरीके से बीबीसी दिल्ली के दफ्तर पर इनकम टैक्स की टीम भेज देते हैं इस बात पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय में मीडिया की कलम पर हमला करार दिया जाता है उसके बाद द गार्जियन अखबार जो कि ब्रिटेन का नंबर एक का खबर है इस अखबार में एक रिपोर्ट वायरल होती है कि इजराइल की जासूस कंपनी जिसके प्रमुख हन्नान है उनका स्ट्रिंग ऑपरेशन करके यह न्यूज़ चलती है अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, भारत आदि देशों के चुनाव को हैंग करके एक पार्टी को लाभ दिया गया और वहां के नेताओं की सीक्रेट बातों को भी अपने अनुसार इस्तेमाल किया गया आप सोच नहीं सकते यह जासूसी ग्रुप किस तरह आप ही के दिमाग का इस्तेमाल करके अपना काम निकालता था और सरकारों का निर्माण होता था कुछ लोग इस बात को मानने से इंकार कर देंगे परंतु जो लोग साइकोलॉजी को जानते हैं या समझते हैं वह इसका का महत्व जानेंगे। अब इस विवाद के आने के बाद मोदी पर चारों तरफ से दबाव बनने लगा अंतरराष्ट्रीय समुदाय तो मोदी के खिलाफ हाय तौबा मचा ही रहा था।

   देखने में सब कुछ उस तरीके से हो रहा था जैसे मनमोहन सिंह के समय कांग्रेस के साथ खेल हुआ था परंतु इस बात का एक अर्थ और भी है और वह जो +पार्टी अपने एजेंडे के इतने नजदीक हैं वह पार्टी इन लग रहे‌ आरोपों के कारण सत्ता से बाहर हो सकती है और मोदी पर यह दबाव इस कारण से नहीं बनाई जा रहे हैं जो लोग हाय तौबा मचा रहे हैं वह दूध के धुले नहीं है सिर्फ भारत के मंडी में व्यापार या दूसरे शब्दों में कहें पैसे का खेल है सब यह अंतरराष्ट्रीय समुदाय पहले तो कभी बोला नहीं अब इनको मीडिया के कलम पर अटैक नजर आ रहा है सिर्फ मंडी जो है अदानी ग्रुप के हाथ जा रही है इसीलिए मोदी पर हमले हो रहे हैं यहां पर मैं यह कतई नहीं कहूंगा कि मोदी और अडानी दोनों बहुत साफ-सुथरे परंत इस शतरंज के खेल में सब दोहरे चेहरे से खेल रहे हैं और यह खेल इतना बड़ा है कि हम लोगों की सोच को प्रभावित और बांधने के लिए सोशल मीडिया का जाल बिछा दिया गया है आज के युग में हमारे देश में हर उम्र का व्यक्ति शॉर्ट्स और रील बनाने में मस्त हैं मानसिकता में यह डाल दिया गया है कि हम लोगों के view बढ़ेंगे और पैसा आएगा जब सरकारें रोजगार नहीं दे पा रही हैं तो व्यक्ति को ऐसी हरकतें करते हुए देख अचंभित नहीं होना है हमारे देश में बहुत पैसा है परंतु हम लोग उसका महत्व नहीं जानते और ऊपर बड़े-बड़े खेल करके हमारे देश को फिर लूटा जा रहा है आप कहेंगे मोदी से यह बात किस तरफ ले गए हर व्यक्ति के बात करने का अपना ढंग होता है तो मैं तो बस इतना ही कहूंगा जो कुछ हमने पिछले सालों में झेला है जिसमे गुलामी का दौर भी था।। जागिए मेरे देशवासियों 

                           जय हिन्द। जय भारत। 🙏       

धन्यवाद 😍       

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Featured post

नशे की गिरफ्त में युवा बन रहे हैं अपराधी